दग़ा गर यूं ही देनी थी हमारे पास आए क्यों
वफ़ा तो हमने की थी फिर दुखों के फिर है साए क्यों
0 0 0 0 0 0 0
Like Like Like Like Like Like Like