24 September 2017 8:06:44 AM UTC
In: Shayari
"वो ज़ुबान ही किया जिसमे रब का नाम न हो!
वो प्यार ही किया जिसमे ईमान न हो!
दिल तोह सबके पास है लेकिन वो दिल भी किया जिसमे किसीके लिए प्यार न हो!"  
0 0 0 0 0 0 0
Like Like Like Like Like Like Like