आँख भरती है हमारी, अश़क गिरते हैं तुम्हारे
ऐसी चाहत गर मिले तो कया हसीँ फिर बात हो
0 0 0 0 0 0 0
Like Like Like Like Like Like Like