र्दद ए तनहाई भी ऐमन खूब ही एक र्दद है
यह न हो तो कया अहम फिर खुशनुमा लमहात हो
0 0 0 0 0 0 0
Like Like Like Like Like Like Like