क्यों अब आते हो फिर तुम यह आंसू पोछने को भी
तुम्हारे इश्क में हैं पागल रखा ना कुछ सोचने क